Tuesday, March 26, 2013

परिरुप और विकास सत्यापन और वैधीकरण अपेक्षाये



अंतरराष्ट्रीय मानक आईएसओ 9001:2008 में गुणवत्ता प्रबंध प्रणाली के लिए परिरुप और विकास सत्यापन अपेक्षाये क्या हैं?



अंतरराष्ट्रीय मानक आईएसओ 9001:2008 में गुणवत्ता प्रबंध प्रणाली के लिए परिरुप और विकास सत्यापन अपेक्षाये मानक के पैरा 7.3.5 में अंकित हैं. मानक में वर्णित अपेक्षाओं के अनुसार यह सुनिश्चित करने के लिए कि परिरुप और विकास निर्गत परिरुप और विकास निवेश अपेक्षाओं को पूरा कराते हैं, आयोजित प्रबंधों (अर्थात व्यवस्थाओं) के अनुसार सत्यापन संपन्न किए जाएँ. आयोजित प्रबंधों (अर्थात व्यवस्थाओं) के लिए परिरुप और विकास आयोजना सन्दर्भ मानक के पैरा 7.3.1 में देखना चाहिये.

वर्णित अपेक्षाओं के अनुसार सत्यापन के परिणामों और की गई कोई आवश्यक कार्रवाई के अभिलेख रखे जाएँ.



अंतरराष्ट्रीय मानक आईएसओ 9001:2008 में गुणवत्ता प्रबंध प्रणाली के लिए परिरुप और विकास वैधीकरण अपेक्षाये क्या हैं?

अंतरराष्ट्रीय मानक आईएसओ 9001:2008 में गुणवत्ता प्रबंध प्रणाली के लिए परिरुप और विकास वैधीकरण अपेक्षाये मानक के पैरा 7.3.6 में अंकित है. मानक में वर्णित अपेक्षाओं के अनुसार यह सुनिश्चित करने के लिए कि परिणामित उत्पाद निर्दिष्ट अनुप्रयोग या अभीष्ट उपयोग के लिए, जहाँ ज्ञात हो, अपेक्षाओं को पूरा करने के योग्य हैं, परिरुप और विकास वैधीकरण आयोजित प्रबंधों (अर्थात व्यवस्थाओं) के अनुसार संपन्न किए जाएँ. मानक में यह भी वर्णित है कि जहाँ व्यावहारिक हो वैधीकरण उत्पाद की सुपुर्दगी या उसके उपयोग से पहले ही पूरी कर ली जाए. वैधीकरण के परिणामों और आवश्यक कार्रवाइयों के अभिलेख रखे जाएँ.

No comments:

Post a Comment