Tuesday, July 26, 2011

आईएसओ ९००१:२००८ गुणवत्ता प्रबंध प्रणाली लागू करने के लिए परिचालन समिति और टास्क फ़ोर्स के गठन और प्रशिक्षण की आवश्यकता आप क्यों महसूस करते हैं?



परिचालन समिति और टास्क फ़ोर्स के गठन के सन्दर्भ में अंतर्राष्ट्रीय मानक आईएसओ ९००१:२००८ में कोई दिशा-निर्देश या अपेक्षा नहीं है, फिर भी उच्च प्रबंधन द्वारा परिचालन समिति और टास्क फ़ोर्स का गठन एक प्रभावी कदम हो सकता है.

परिचालन समिति को संस्था में आईएसओ ९००१:२००८ गुणवत्ता प्रबंध प्रणाली कार्यान्वयन की समग्र आयोजना, निर्देश देने और संसाधनों की उपलब्धता आदि कार्यों को देखना चाहिए. संस्था का कोई उच्च अधिकारी परिचालन समिति का प्रधान और विभागों के प्रमुख व प्रबंधन प्रतिनिधि इसके सदस्य होने चाहिए. परिचालन समिति या उच्च प्रबंधन को एक टास्क फ़ोर्स का गठन करना चाहिए. टास्क फ़ोर्स का समन्वयक प्रबंधन प्रतिनिधि को बनाना चाहिए. गुणवत्ता नियमावली, कार्यविधियाँ, कार्यनिर्देश आदि प्रलेखन तैयार करने का कार्य टास्क फ़ोर्स को दिया जाना चाहिए. परिचालन समिति और टास्क फ़ोर्स के सदस्यों को संस्था की प्रक्रियाओं की अच्छी जानकारी होनी चाहिए और वे लेखन व सम्प्रेषण में दक्ष होने चाहिए.

परिचालन समिति और टास्क फ़ोर्स के सदस्यों को प्रोफेशनल प्रशिक्षक अथवा किसी प्रशिक्षण संस्था से आईएसओ ९००१:२००८ गुणवत्ता प्रबंध प्रणाली की जानकारी का प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए, जिसमें मानक की अपेक्षाओं की जानकारी पर विशेष ध्यान दिया गया हो. टास्क फ़ोर्स के सदस्यों को यदि आवश्यक हो तो प्रलेखन संबंधी प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए. प्रबंधन प्रतिनिधि को 'लीड आडिटर' प्रशिक्षण में नामांकित करना लाभदायक होगा ताकि वह आईएसओ ९००१:२००८ गुणवत्ता प्रबंध प्रणाली को समग्र रूप से जान सके.

इस लघु लेख में दी गयी जानकारी आपको कैसी लगी? कृपया अपनी प्रतिक्रिया से अवगत करायें.

शुभकामनाओं सहित,

केशव राम सिंघल

हिंदी में आईएसओ 9001 गुणवत्ता प्रबंध प्रणाली पर जानकारी देने वाला पहला ब्लॉग .....

No comments:

Post a Comment